News

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड की पुनरावृत्ति है देवरिया कांड की पूरी कहानी

बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड सामने आने के बाद यूपी के देवरिया में भी इसी तरह का घिनौना मामला सामने आया है। जिसके बाद पूरे राज्य में हड़कंप मचा हुआ है। यहां बालिका गृह में रह रहीं 42 लड़कियों में से अभी 18 लड़कियां गायब हैं। इस पर दोनों सदनों में भी काफी हंगामा हुआ है।

देवरिया जिले के एक महिला आश्रय गृह में कथित सेक्स रैकेट मामले पर केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी लोकसभा में बयान दिया है। राजनाथ ने लोकसभा में कहा कि ऐसी घटना दुर्भाग्यपूर्ण और शर्मनाक है। इसके साथ ही योगी सरकार को बधाई देते हुए राजनाथ ने कहा कि सीएम ने मामले की जानकारी मिलते ही संबंधित विभाग और अधिकारियों पर कार्रवाई की है।

 इससे पहले राज्यसभा में उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के एक महिला आश्रय गृह में कथित तौर पर सेक्स रैकेट चलाए जाने को लेकर हंगामा हुआ। मामले को लेकर हंगामे की वजह से सभापति को सदन 12 बजे तक के लिए स्थगित करना पड़ा। सदन के पटल पर दस्तावेजों और बयान रखे जाने के तुरंत बाद सभापति एम.वेंकैया नायडू ने सदस्यों के आचरण के संबंध में कुछ टिप्पणियां की।

 5 अगस्त से रोशनी में आए इस मामल में अबतक क्या-क्या हुआ है इसे कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओ के जरिए समझें:

1. 5 अगस्त को मां विंध्यवासिनी बालिका गृह से बच्ची किसी तरह बचकर निकली और थाने जा पहुंची. बच्ची ने पुलिस को बालिका गृह में चल रही हैवानियत के बारे में पुलिस को बताया. पुलिस के मुताबिक बच्ची ने कहा कि उसके साथ बालिक गृह में नौकरों से भी बुरा बर्ताव होता है. उसने आगे बताया कि वहां कार आतीं हैं और 15 साल की उम्र की लड़कियों को कार से कहीं भेजा जाता है. जब ये लड़किया सुबह बालिका गृह लौटती हैं तो बस रोती हैं और वजह पूछने पर कोई जवाब नहीं देतीं.

2. पुलिस बालिका गृह पहुंची और 24 बच्चियों को सुरक्षित बाहर निकाला. जब पुलिस ने बालिका गृह का रजिस्टर देखा तो वहां 42 लड़कियों को नाम थे. बालिका गृह से 18 लड़कियां लापता हैं और वो कहां हैं इसकी कोई जानकरी अबतक नहीं मिल सकी है.

3. इस बालिका गृह में से निकाली गई 24 बच्चियों के सात यौन शोषण की आशंका है. हालांकि अभी तक बच्चियों की मेडिकल जांच रिपोर्ट सामने नहीं आई है.

4. पुलिस ने आरोपी और बालिका गृह संचालिका गिरिजा त्रिपाठी को उसके पति मोहन त्रिपाठी और बेटे प्रदीप के साथ गिरफ्तार कर लिया है. आज यानी 7 अगस्त को गिरिजा त्रिपाठी की बेटी कंचनलता को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

5. पुलिस ने बताया कि इस बालिका गृह को अवैध रूप से चलाया जा रहा था. इसका लाइसेंस साल 2017 में ही निलंबित कर दिया गया था. सीबीआई ने अपनी जांच रिपोर्ट में इस बालिका गृह से जुड़ी अनियमितताओं की जानकारी दी थी जिसके बाद इसे बंद करने के और सभी बच्चियों को दूसरी जगह शिफ्ट करने के आदेश दिए गए. संचालिका गिरिजा त्रिपाठी ने हाई कोर्ट से मिली स्टे की बात कहकर ये बालिका गृह चलाती रही.

6. मामले की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर देवरिया के जिलाधिकारी सुजीत कुमार को हटा दिया गया. देवरिया के डीपीओ रहे अभिषेक पाण्डेय को निलम्बित कर दिया गया.

7. जिला मजिस्ट्रेट सुजीत कुमार का कहना है कि उनके पास 42 लड़कियों की लिस्ट है जो इस बालिका गृह में रह रही थी. योगी सरकार ने सुजीत सरकार को पद से हटाने तत्काल आदेश दिए हैं.

8. कांग्रेस ने इस पूरे मामले में सीबीआई जांच की मांग की है. समाजवादी पार्टी ने मौजूदा सरकार पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर गंभीर ना होने का आरोप लगाया है.

9. बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि बिहार में मुजफ्फरपुर शेल्टर होम की तरह ही उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले के नारी संरक्षण गृह में महिलाओं के साथ जबरन देह व्यापार का घिनौना काण्ड यह साबित करता है कि भाजपा की सरकारों के शासन में कितनी ज़्यादा अराजकता है और महिलाएं किस कदर असुरक्षित और दुर्दशाग्रस्त हैं. यह पूरे देश के लिये गहरी चिंता और शर्म की बात है.

10. इस बालिका गृह को यूपी सरकार की ओर से तीन साल पहले तक अनुदान दिया जाता था. बिहार के बेतिया जिले की एक बच्ची यहां रह ही थी किसी तरह दिवाल फांद कर  रविवार की रात बाहर निकल सकी और पुलिस स्टेशन पहुंच कर अपनी आप बीती सुनाई. जिसके बाद ये घटना दुनिया के सामने आ सकी.

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top